Pakistan's international trouble, this veteran turned down offer to become coach

Pakistan’s International Trouble : पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) हमेशा अलग-अलग विवादों में बना रहता है। यही वजह है कि कई बार पाकिस्तान क्रिकेट को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेइज्जत होना पड़ता है।

पाकिस्तान क्रिकेट को कई मौकों पर अपमानित होना पड़ा है, चाहे वह हालिया कराची टेस्ट के दौरान दर्शकों की अनुपस्थिति हो, जिसके बाद मुफ्त में टिकट बांटे गए हों, या 2021 में श्रृंखला से ठीक पहले स्वदेश लौट रहा न्यूजीलैंड हो।

पाकिस्तान में वहां का माहौल और बोर्ड के भीतर चल रही अस्थिरता भी इसका एक बड़ा कारण है। पीसीबी को एक बार फिर नुकसान हुआ है। दरअसल, एक विदेशी दिग्गज ने देश का कोच बनने का ऑफर भी ठुकरा दिया है।

आपको बता दें कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की राष्ट्रीय टीम के मुख्य कोच पद की तलाश का सिलसिला खत्म नहीं हो रहा है। इसी कड़ी में साउथ अफ्रीका के दिग्गज खिलाड़ी मिकी आर्थर ने ऑफर ठुकरा दिया है।

पीसीबी ने मंगलवार को कहा कि, वह मुख्य कोच के पद के लिए दक्षिण अफ्रीका के आर्थर के साथ बातचीत कर रहा था ।लेकिन उन्होंने कहा कि, वह डर्बीशायर के साथ अपने दीर्घकालिक अनुबंध के कारण इस पद को स्वीकार नहीं कर पाएंगे।

हालांकि सूत्रों की माने तो आर्थर ने पाकिस्तान क्रिकेट के अंदर के माहौल को देखते हुए, इस ऑफर को ठुकरा दिया है। इतना ही नहीं आर्थर ने अपना पुराना अनुभव शेयर करते हुए बोर्ड की पोल भी खोल दी है।

मिकी आर्थर

पीसीबी ने अपनी ओर से जारी बयान में कहा कि, उनका (आर्थर) डर्बीशायर के साथ दीर्घकालिक अनुबंध है। हमने उन्हें एक सलाहकार के रूप में कार्य करने के लिए भी कहा लेकिन विभिन्न कारणों से यह संभव नहीं हो सका।

भाषा ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के एक उच्च पदस्थ सूत्र के हवाले से बताया कि, आर्थर इसलिए नहीं आ रहे हैं क्योंकि उन्हें पाकिस्तान क्रिकेट के माहौल पर भरोसा नहीं है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने हाल ही में रमीज़ राजा की जगह नजम सेठी की अध्यक्षता वाले एक पैनल को नियुक्त किया है, जो पीसीबी की कमान संभाल रहे हैं। और शाहिद अफरीदी को अंतरिम मुख्य चयनकर्ता नियुक्त किया गया था।

आर्थर ने खोली पाकिस्तान क्रिकेट की पोल

जानकार सूत्र के मुताबिक तथ्य यह है कि जब पीसीबी अध्यक्ष नजम सेठी ने आर्थर से बात की तो उन्होंने कहा कि वह पाकिस्तान क्रिकेट के साथ फिर से काम करना चाहते हैं.

लेकिन अतीत में उनका बोर्ड के साथ अच्छा अनुभव नहीं रहा है। आर्थर ने सेठी को बताया कि विश्व कप 2019 के दौरान पीसीबी प्रबंधन ने उनसे कहा था कि उनका अनुबंध बढ़ाया जाएगा।

लेकिन पाकिस्तान के सेमीफाइनल में पहुंचने के बावजूद ऐसा नहीं किया गया। आर्थर को यह भी आशंका थी कि पाकिस्तान क्रिकेट के माहौल को देखते हुए उनका अनुबंध स्थायी होगा या नहीं।

यही वजह है कि हमने पाकिस्तान क्रिकेट में चल रही अस्थिरता का भी जिक्र किया। इस वजह से पाकिस्तान को एक बार फिर बेइज्जत होना पड़ा।

More Xplore

Previous articleIND vs SL : दिग्गज खिलाड़ी भारतीय टीम से बाहर, श्रीलंका की पहले बैटींग
Next articleIND vs SL 2nd ODI Score : भारत का पहला विकेट गिरा, रोहित शर्मा 17 रन बनाकर पवेलियन लौटे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here