MI vs CSK | धोनी की चेतावनी का असर, चेन्नई के गेंदबाजों ने मुंबई के खिलाफ नहीं फेंकी एक भी नो बॉल

0
36
IPL 2023

MI vs CSK: आईपीएल 2023 में शनिवार को दो मैच खेले गए। पहला मैच राजस्थान रॉयल्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेला गया, जिसमें संजू सैमसन की अगुवाई वाली आरआर ने डेविड वॉर्नर की अगुवाई वाली डीसी को 57 रनों से हरा दिया। इसके बाद दूसरा मैच आईपीएल की दो दिग्गज टीमों के बीच हुआ।

महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई में चार बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स ने पांच बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस को सात विकेट से हरा दिया. इन दोनों मैचों के बाद पॉइंट्स टेबल के समीकरण बदल गए हैं। राजस्थान रॉयल्स की टीम शीर्ष पर पहुंच गई है, जबकि चेन्नई चौथे स्थान पर आ गई है। रोहित की अगुआई वाली मुंबई की टीम आठवें और दिल्ली नौवें पायदान पर खिसक गई है।

चेन्नई के तेज गेंदबाजों ने संभाली गेंदबाजी

मुंबई और चेन्नई के बीच मैच में सबसे दिलचस्प बात यह देखने को मिली कि इस मैच में सीएसके के गेंदबाजों ने एक भी नो बॉल नहीं फेंकी। धोनी इससे काफी खुश नजर आए। इसका फायदा यह हुआ कि सीएसके की टीम ने मुंबई को कम स्कोर पर रोक दिया।

दरअसल, गुजरात टाइटंस और लखनऊ सुपरजायंट्स के खिलाफ पहले दो मैचों में चेन्नई के गेंदबाजों ने काफी नो बॉल फेंकी थी। इस बात से धोनी काफी नाराज हुए थे. उन्होंने लखनऊ के खिलाफ मैच जीतने के बाद अपने गेंदबाजों और टीम को चेतावनी भी दी थी।

अपने गेंदबाजों से क्यों नाराज थे धोनी?

क्यों अपने गेंदबाजों से नाराज थे धोनी?

गुजरात के खिलाफ चेन्नई के गेंदबाजों ने एक्स्ट्रा से 12 रन दिए, जिसमें चार वाइड और दो नो बॉल शामिल थे। तुषार देशपांडे और राजवर्धन हंगरगेकर ने एक-एक नो बॉल फेंकी। इसके बाद लखनऊ के खिलाफ मैच में चेन्नई के 215 रन का पीछा करते हुए लखनऊ ने 205 रन बनाए।

सीएसके के गेंदबाजों ने अतिरिक्त 18 रन दिए, जिसमें 13 वाइड और तीन नो बॉल शामिल हैं। ये तीन नो बॉल तुषार देशपांडे ने फेंकी थीं। वहीं, पांच वाइड दीपक चाहर ने, चार तुषार और तीन वाइड हंगरगेकर ने फेंकी। इस बात से धोनी काफी नाराज हुए थे.

धोनी ने क्या दी चेतावनी?

कैप्टन कूल ने लखनऊ के खिलाफ मैच के बाद कहा था कि अगर चेन्नई के तेज गेंदबाजों ने नो बॉल फेंकना बंद नहीं किया तो वह कप्तानी से हट जाएंगे और टीम को नए कप्तान के नेतृत्व में खेलना होगा। उन्होंने कहा था कि यह मेरी दूसरी चेतावनी होगी और मैं चला जाऊंगा। इसके बाद चेन्नई के गेंदबाजों में जबरदस्त सुधार देखने को मिला।

मुंबई के खिलाफ सीएसके ने अतिरिक्त के रूप में केवल आठ रन दिए, लेकिन उनमें एक भी नो बॉल नहीं थी। धोनी की चेतावनी के बाद सीएसके के तेज गेंदबाजों में जबरदस्त सुधार हुआ। इतना ही नहीं तुषार ने बेहतरीन गेंद पर रोहित शर्मा को क्लीन बोल्ड भी कर दिया।

मोइन और स्टोक्स नहीं खेल रहे थे

इस मैच में मोईन अली और बेन स्टोक्स नहीं खेल रहे थे. ऐसे में धोनी एक अलग प्लेइंग कॉम्बिनेशन के साथ मैदान पर उतरे. दीपक चाहर पहले ओवर में ही चोटिल हो गए थे। ऐसे में तेज गेंदबाज के रूप में चेन्नई के पास तुषार देशपांडे, मगाला और ड्वेन प्रिटोरियस ही उपलब्ध थे। तुषार ने अपने डेब्यू मैच में तीन ओवर में 31 रन खर्च किए, जबकि मगाला ने चार ओवर में 37 रन खर्च किए। प्रिटोरियस ने चार ओवर में 28 रन दिए।

मैच में क्या हुआ

नो बॉल और फ्री-हिट नहीं मिलने का असर ये हुआ कि मुंबई की टीम कम ही स्कोर बना सकी. वानखेड़े स्टेडियम में पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई की टीम 20 ओवर में आठ विकेट खोकर 157 रन ही बना सकी।

कप्तान रोहित शर्मा 13 गेंदों में 21 रन, ईशान किशन 21 गेंदों में 32 रन, कैमरून ग्रीन 11 गेंदों में 12 रन, सूर्यकुमार यादव एक रन, तिलक वर्मा 18 गेंदों में 22 रन, अरशद खान दो रन, ट्रिस्टन स्टब्स पांच रन बना सके।

अंत में टिम डेविड ने 22 गेंदों में 31 रन बनाए और ऋतिक शौकीन ने 13 गेंदों में 18* रन बनाए। चेन्नई की ओर से रवींद्र जडेजा ने सबसे ज्यादा तीन विकेट लिए। वहीं, तुषार देशपांडे और मिचेल सेंटनर को दो-दो विकेट मिले। सिसंडा मगाला ने एक विकेट लिया।

जवाब में चेन्नई ने 18.1 ओवर में तीन विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। डेवोन कॉनवे बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए. हालांकि इसके बाद अजिंक्य रहाणे ने तूफानी पारी खेली। वह 27 गेंदों में 61 रन बनाकर आउट हुए।

रहाणे ने अपनी पारी में सात चौके और तीन छक्के लगाए। वहीं, शिवम दुबे ने 26 गेंदों में 28 रन की पारी खेली। रितुराज गायकवाड़ ने 36 गेंदों में दो चौकों और एक छक्के की मदद से 40 रन बनाए और अंबाती रायडू 16 गेंदों में तीन चौकों की मदद से 20 रन बनाकर नाबाद रहे. मुंबई के लिए जेसन बेहरेनडॉर्फ, पीयूष चावला और कुमार कार्तिकेय ने एक-एक विकेट लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here