भारत की हार से बौखलाए हार्दिक पंड्या ने अर्शदीप सिंह की गलती को बताया ‘अपराध’

114
Hardik Pandya

Hardik Pandya : अर्शदीप सिंह और शीर्ष क्रम ने दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में भारतीय क्रिकेट टीम को निराश किया, क्योंकि 5 जनवरी को पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन (एमसीए) स्टेडियम में हार्दिक पांड्या की अगुवाई वाली युवा टीम श्रीलंका से भिड़ गई थी। इस मैच में श्रीलंका के खिलाफ 16 रन से करारी हार का सामना करना पड़ा।

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज इशान किशन और शुभमन गिल दोनों ही दो और पांच रन ही बना सके, जबकि तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे राहुल त्रिपाठी पांच रन ही बना सके। हालाँकि, सूर्यकुमार यादव (51) और अक्षर पटेल (65) के अर्धशतक की बदौलत भारतीय क्रिकेट टीम जीत के लिए 207 रनों का पीछा करते हुए 190 रनों तक पहुँच गई, लेकिन श्रीलंकाई क्रिकेट टीम ने 16 रनों से मैच जीतकर मैच का थ्रील जारी रखा है। T20I श्रृंखला में इस वक्त भारत बनाम श्रीलंका 1-1 के बराबरी पर है।

नो बॉल फेंकना खेल के किसी भी फोर्मेट में अपराध है: हार्दिक पांड्या

हालाँकि, यह अर्शदीप सिंह (2 ओवर में 0/37) थे, जो सबसे अधिक आलोचना के घेरे में आए क्योंकि युवा तेज गेंदबाज पाँच नो-बॉल फेंकने के बाद टीम इंडिया की हार का खलनायक बन गया।

श्रीलंका के खिलाफ चल रही तीन मैचों की टी20 सीरीज के 5 जनवरी को 1-1 से बराबरी पर होने के बाद, भारत के कार्यवाहक कप्तान हार्दिक पांड्या ने कहा कि, वह हार के लिए अर्शदीप सिंह को दोष नहीं देंगे, लेकिन खेल के किसी भी प्रारूप में नो-बॉल फेंकना एक 'अपराध' है, और हर कोई इससे अवगत है।

आपको बता दें, भारतीय क्रिकेट टीम ने इस मैच में कुल 7 नो बॉल फेंकी और श्रीलंका ने फ्री हिट के जरिए खूब रन बटोरे और बोर्ड पर 206/6 का विशाल स्कोर खड़ा कर दिया।

इस बीच हार्दिक पांड्या ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, इससे पहले भी अर्शदीप सिंह ने नो बॉल फेंकी थी। यह अर्शदीप को दोष देने या उस पर बहुत सख्त होने के बारे में नहीं है, लेकिन हम सभी जानते हैं कि खेल के किसी भी प्रारूप में नो-बॉल फेंकना ‘अपराध’ है।

पांड्या ने आगे कहा कि टीम इंडिया ने पावरप्ले में न तो अच्छी गेंदबाजी की और न ही अच्छी बल्लेबाजी की और नतीजा हम सबके सामने है। हमने कुछ बुनियादी गलतियां की हैं जो हमें इस स्तर पर नहीं करनी चाहिए थीं जिनका उल्लेख करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि हर कोई जानता है कि वे क्या हैं।

हमारे लिए सबक यह है कि हमें उस पर ध्यान देना चाहिए जिसे हम नियंत्रित कर सकते हैं। आपका दिन खराब हो सकता है, लेकिन बुनियादी बातों से दूर न हों।